February 24, 2024
भारत की खोज किसने की थी? | Bharat Ki Khoj Kisne Ki Thi?

भारत की खोज किसने की थी? | Bharat Ki Khoj Kisne Ki Thi?

Bharat Ki Khoj Kisne Ki  :  दोस्तों आपने भारत के इतिहास के बारे मे तो काफी सारी किताबें पढ़ी होगी। लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारत की खोज किसने की थी? यदि नहीं जानते हैं तो आज के इस आर्टिकल में हम लोग इसी के बारे में जानेंगे। हालांकि दोस्तों आपके मन में सवाल होगा कि भारत को खोजा क्यों गया? क्या भारत धरती पर मौजूद नहीं था तो हम आपको बता दें कि उस वक्त भारत धरती पर ही मौजूद था और एशियन और अफ्रीकन देशों को भारत के बारे में जानकारी थी और भारत उन सभी देशों के साथ व्यापार भी करता था।

लेकिन यूरोप के लोग भारत के बारे में नहीं जानते थे लेकिन उन्हें यह जरूर पता था कि पृथ्वी पर भारत नामक क्षेत्र मौजूद है जहां पर काफी सारे खजानों, बूटियां, मसाले, खनिज, औषधीय मौजूद है इसलिए यूरोप के देश भारत को खोजना चाहते थे इसलिए उन्होंने भारत को खोजने की काफी प्रयास की जिसमें आगे जाकर वे सफल भी हुए।  तो चलिए जानते हैं कि भारत की खोज किसने की थी? और भारत की खोज कब और किस प्रकार से हुआ?

भारत की खोज किसने की थी? – Bharat Ki Khoj Kisne Ki Thi?

वास्कोडिगामा ने 20 मई, वर्ष 1498 में भारत की खोज की थी। वास्कोडिगामा एक नाविक और यूरोपीय का खोजकर्ता करता था जो 1497 मे भारत की खोज के लिए निकला था और भारत में सबसे पहले केरल राज्य के कोझिकोड (कालीकट) तट पर पहुंचा था।

वास्कोडिगामा यूरोप के ऐसा पहला व्यक्ति था जो  समुद्र के रास्ते से भारत आया था। इसलिए वास्कोडिगामा को भारत के समुद्री रास्ते का खोजकर्ता माना जाता है और वास्कोडिगामा को discovery of India भी कहा जाता है।

दोस्तों यदि आप सोच रहे हैं कि वास्कोडिगामा के भारत की खोज करने से पहले क्या भारत पृथ्वी पर मौजूद नहीं था? तो हम आपको बता दें कि ऐसा नहीं है भारत पहले से ही पृथ्वी पर मौजूद था  और भारत सिर्फ यूरोप के लिए अनजान था। वास्कोडिगामा के भारत आने से पहले भारत का व्यापारी संबंध कई एशियन और अफ्रीकन देशों के साथ कई शताब्दियों से हो रहा था।

लेकिन वास्कोडिगामा द्वारा 20 मई, वर्ष 1498 को यूरोप से भारत तक के समुद्री रास्ते को खोजने के बाद भारत यूरोप के साथ भी व्यापारी संबंध करने लगा। यह कहना बिल्कुल गलत होगा कि भारत की खोज वास्कोडिगामा ने की थी क्योंकि वास्कोडिगामा के भारत को खोज करने से पहले भारत धरती पर मौजूद था और भारत उन प्राचीन देशों के लिस्ट में तीसरे स्थान पर आता है।

दोस्तों हम आपको बता दें कि यूरोप के लोगों को भारत को खोजने मे इतना इच्छुक इसलिए थे क्योंकि उस वक्त भारत सोने की चिड़िया बोला जाता था। क्योंकि भारत में उस वक्त कई प्रकार की जड़ी बूटियां, मसाले, खनिज, औषधीय पाई जाती थी  और भारत उस वक्त एक महत्वपूर्ण देश इसलिए भी था क्योंकि उस समय के भारत में अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बांग्लादेश और ईरान के भी कुछ इलाके आते थे। इसके अलावा तिब्बत और मयंमार के भी इलाका भारत के क्षेत्र में आते थे इसलिए भारत उस वक्त व्यापार करने के लिए काफी महत्वपूर्ण देश था।

भारत का खोज कब हुआ ?

भारत का खोज वास्कोडिगामा द्वारा 20 मई 1498 को किया गया था। वास्कोडिगामा यूरोप का खोज करता था जो भारत को खोजने के लिए 1497 ईस्वी में पुर्तगाल से चला था।

उस समय वास्कोडिगामा समुद्र में एक नया रास्ता खोजते हुए भारत आया था भारत में पहली बार केरल राज्य के कालीकट बंदरगाह पहुंचा था।

वास्कोडिगामा कौन था और कहां का रहने वाला था?

वास्कोडिगामा एक पुर्तगाल अन्वेषक, और यूरोपीय खोजकर्ता था। जो की यूरोप के बड़े शहर पुर्तगाल के रहने वाला था। वास्कोडिगामा का जन्म सन 1460 ईस्वी में हुआ था और वास्कोडिगामा के पिताजी एस्तेवाओँ डा गामा थे। वास्कोडिगामा दुनिया के पहले व्यक्ति बने जिन्होंने शन 1497 ईस्वी में यूरोप से भारत आया।

वास्कोडिगामा समुद्री मार्ग से भारत आया था और भारत का खोज किया था। ये अपनी जीवन मे पूरा 3 बार भारत की यात्रा किए थे। वास्कोडिगामा को भारत खोजने के बाद पश्चिमी देशों इस देश के बारे में जानकारी पड़ी। भारत की खोज करने के बाद सन 1524 ईसवी में खोजकर्ता वास्कोडिगामा की मृत्यु हो गई थी।

वास्कोडिगामा भारत क्यों आया था?

आपको बता दें कि वास्कोडिगामा भारत मे मसालों का बिजनेस करने के लिए आया था दोस्तों हम आपको बता दें कि उस समय भारत में कई प्रकार के मसालों का उत्पादन किया जाता था लेकिन उस समय अन्य देशों को भारत के बारे में कोई जानकारी नहीं थी उस समय जब वास्कोडिगामा ने भारत की यात्रा की और भारत की खोज की तब दुनिया को भारत के बारे में जानकारी हुई। उसके बाद भारत के साथ सभी देश मसाले के बिजनेस करने लगे।

भारत की खोज नामक पुस्तक किसने लिखी थी?

भारत के सबसे पहला प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने भारत की खोज किताब को वर्ष 1947 में लिखी थी। इस किताब को 2 भाषाओं अंग्रेजी और हिंदी में लिखा गया है। इस किताब में भारत की खोज और भारत के सभी इतिहास के बारे में विस्तार से चर्चा किया गया है।

वास्को डी गामा कितनी बार भारत आया था?

वास्कोडिगामा अपने पूरे जीवनकाल में तीन बार भारत का यात्रा किया था। वाह जब 20 मई, 1498 में भारत आया था तो सबसे पहले भारत के केरल  राज्य तट पर पहुचा था।

फिर दूसरी बार 1502 ईसवी मे वास्कोडिगामा भारत आया। मुश्लिम व्यपारियों ने वास्कोडिगामा का काफी विरोध किया क्योंकि वह एक ईसाई धर्म के थे। क्योकि उस समय ज्यादातर मुश्लिम देश भारत के साथ व्यापार किया करते थे और चुकी वास्कोडिगामा यूरोप के पुर्तगाल के रहने वाले थे इसलिए उन सभी मुश्लिम देश को यह बात राश नहीं होती थी की उनके अलावा भारत से और कोई व्यापार करें।

फिर तीसरी बार 1524 ईसवी को  वास्कोडिगामा भारत आया। वास्कोडिगामा का इस बार आने का मकसद पुर्तगालियों के विरोध को समाप्त करना था। अपने तीसरी भारत यात्रा के दौरान वास्कोडिगामा को 23 दिसंबर 1524 में मलेरिया मृत्यु हो गई।

भारत आने में किस भारतीय व्यापारी ने वास्कोडिगामा की मदद की थी?

वास्कोडिगामा को भारत आने में मदद करने वाला व्यापारी का नाम कानजी मालम थे जो भारत के गुजरात राज्य के रहने वाले थे। कानजी मालम अक्सर समुद्री मार्ग से भारत से अफ्रीका की यात्रा करते  थे। जिसकी वजह से इन्हें भारत के समुद्री रास्ता के बारे में काफी जानकारी थी।

वास्कोडिगामा कालीकट कब पहुंचा था?

भारत की खोज में निकला पुर्तगाली यात्री वास्कोडिगामा 20 मई 1498 ईसवी को भारत के राज्य केरल के कालीकट पहुंचा था। 

FAQ –

Q1. भारत की खोज किसने की थी ?

Ans. सबसे पहले भारत की खोज पुर्तगाल के रहने वाले वास्कोडिगामा ने की थी।

Q2. भारत की खोज कब की गई थी ?

Ans. पुर्तगाल के नाविक वास्कोडिगामा द्वारा भारत की खोज 20 मई सन 1498 इसवी को की गई थी।

Q3. भारत के समुद्री मार्ग की खोज किसने की थी ?

वास्कोडिगामा ने ही 20 मई 1498 को भारत के समुद्री मार्ग से होते हुए भारत आया था और भारत के समुद्री मार्ग का खोज किया था।

Q4. Bharat Ki Khoj Kis San Mein Hui Thi ?

भारत देश की खोज पुर्तगाली यात्री वास्कोडिगामा द्वारा 20 मई 1498 ईसवी को हुई थी।

Q5. वास्कोडिगामा भारत के किस स्थान पर पहुंचा था?

वास्कोडिगामा समुद्र के रास्ते भारत पहुंचने के बाद सबसे पहले वह भारत के गोवा राज्य के एक कालीकट नामक स्थान पर पहुंचा था।

Q6. वास्कोडिगामा कौन था ?

Ans. वास्कोडिगामा पुर्तगाली के रहने वाला एक नाविक और यूरोपीय खोजकर्ता था।

Q7. वास्कोडिगामा भारत कब आया था?

Ans:- पुर्तगाल के खोजकर्ता वास्कोडिगामा सबसे पहले 20 मई सन 1498 को भारत आया था.

Q8. वास्कोडिगामा किस देश का निवासी था?

Ans:- वास्कोडिगामा यूरोप के पुर्तगाल देश का रहने वाला था।

Q9. वास्कोडिगामा किस देश से भारत आया था

Ans:- वास्कोडिगामा यूरोप के देश पुर्तगाल का रहने वाला था और वह पुर्तगाल से भारत आया था।

Q10. भारत की खोज नामक पुस्तक के लेखक कौन है?

भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू भारत की खोज नामक पुस्तक के लेखक हैं।

Q11. वास्कोडिगामा कहां के नाभिक थे?

Ans:- वास्कोडिगामा यूरोप के एक देश पुर्तगाल के नाभिक थे।

Q12: वास्कोडिगामा ने भारत की कितनी यात्राएं की थी?

Ans: पुर्तगाली नाविक वास्कोडिगामा ने भारत 3 बाहर आया था। वास्कोडिगामा की आखिरी भारत यात्रा के दौरान 24 मई 1524 ईस्वी मे मृत्यु हो गई थी।

Q13 : वास्कोडिगामा कब हुई थी?

Ans: वास्कोडिगामा की 24 मई 1524 ईस्वी हुई थी।

[ आपने क्या सीखा ]

दोस्तों इतना सब जानने के बाद अब हमें उम्मीद है कि अब आप अच्छी तरह से जान चुके होंगे कि भारत की खोज किसने की थी?  दोस्तों चलिए अब इस लेख को हम लोग यहीं पर समाप्त करते हैं लेकिन इससे पहले आप  हमें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं कि आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ताकि हम ऐसे ही आपके लिए  मजेदार पोस्ट लाते रहे। और  हां  इस पोस्ट को अपने दोस्तों के पास शेयर करना ना भूले…धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *