Bharat mein pahla atm kis shahar mein khola gaya tha

bharat mein pahla atm kis shahar mein khola gaya tha :- नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारा इस लेख में आज के इस लेख के मदद से हम  “भारत में पहला ATM किस शहर में खोला गया था ” के बारे में जानने वाले हैं।

आपने कभी ना कभी ATM का तो अवश्य उपयोग किया होगा और हो सकता है कि ATM से transaction भी किया होगा मगर क्या आपको मालूम है कि ATM का आविष्कार किसने किया था और सर्वप्रथम ATM किस देश में लगाया गया था।

और ATM का full form क्या होता है अगर आपका जवाब ना है तो आप हमारे इस लेख के साथ अंत तक जुड़े रहे और इस लेख को पढ़ें क्योंकि इस लेख में हम ने इन्हीं सभी को स्टेप बाय स्टेप करके बता रखा है तो चलिए शुरू करते हैं इस लेख को।

भारत में पहला एटीएम किस शहर में खोला गया था ?

भारत में सबसे पहला ATM मुंबई शहर में खोला गया था। और यह ATM तकरीबन 1987 वे वर्ष को एचएसबीसी बैंक (HSBC-Bank) द्वारा खोला गया था। भारत में पहला ATM खोले जाने के बाद अब धीरे-धीरे अलग-अलग शहरों में भी ATM स्थापित किए जाने लगा मगर कुछ राजनीतिक दल के नेताओं ने इसका जमकर विरोध भी किया और उनका कहना था कि कम्प्यूटरीकरण और प्रौद्योगिकी के वजह से हमारे समाज का बेरोजगारी बढेगा।

और हमारे समाज के लोग धीरे-धीरे बेरोजगार होते जाएंगे, मगर जो लोग विरोध कर रहे थे उन्हें यह मालूम नहीं था कि ATM को मार्केट में लाने से हमारे समाज के बीच जागरूकता बढ़ेगी और जिस काम के लिए लोग बहुत ज्यादा समय बिताते थे वह काम कुछ ही चंद समय में हो जाएगी।

फिर धीरे-धीरे लोग इस बात को समझते गए और एटीएम पूरी तरह से भारत में स्थापित होने लगा और अगर आप अभी फिलहाल के समय में किसी भी शहर या छोटा से छोटा मार्केट में भी जाएंगे तो वहां आपको किसी न किसी बैंक का एटीएम मशीन अवश्य दिखाई देगा और इससे लोग काफी संतुष्ट भी हो गए है।

बैंकों में पहली बार computer पर आधारित Automated tailor machine यानी ATM का प्रयोग कब हुवा?

कुछ इतिहासकारों का ऐसा मानना है कि सबसे पहले 1966 वे वर्ष में ATM का प्रयोग जापान के टोक्यो शहर में  किया गया था, फिर कुछ समय बीत जाने के बाद तकरीबन 27 जून, 1967 को लंदन के प्रसिद्ध ” बार्केले बैंक ” ने अपने शहर में ATM  को जारी किया।

जब शुरु-शुरु बार ATM स्थापित किया गया था और इसे चालू किया गया था तो महज कुछ ही customer ने ATM का लाभ उठाया था। क्योंकि उस समय पर ATM Card से पैसे नहीं निकाले जाते थे ATM Card के जगह पर उस समय डेबिट कार्ड यूज किया जाता था और उसी से एटीएम कार्य करता था।

ATM क्या है | what is ATM in Hindi

दोस्तों हमने ऊपर के टॉपिक में जाना कि आखिर ATM  भारत में सबसे पहले किस शहर में खोला गया था, और हमने यह भी जाना कि ATM विश्व में सबसे पहले कहां उपयोग किया गया था। अब हम इस टॉपिक के माध्यम से जानेंगे कि आखिर ATM क्या है तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को।

ATM एक खास प्रकार का मशीन होता है जिसे Bank के कामों के लिए उपयोग किया जाता है। इसे कई सारे लोगों द्वारा banking electronic device भी कहा जाता है, मगर इसका पूरा नाम ऑटोमेटिक टेलर मशीन  (Automatic tailor machine) है।

एटीएम का उपयोग सिर्फ Bank के customer द्वारा ही किया जा सकता है। इसका उपयोग खासतौर पर  बैंक से ट्रांजैक्शन करने के लिए किया जाता हैं। यहां पर Bank के customer अपनी account access करने के लिए एक स्पेशल plastic card का उपयोग करते हैं और उसमें लगे PIN के द्वारा अपने अकाउंट से पैसे निकाल सकते हैं और डाल भी सकते हैं।

ATM का निर्माण खास तौर पर लोगों के Bank संबंधित कामों को आसान करने के लिए बनाया गया है। हर एक शहर में आप एक ना एक ATM तो अवश्य देखे होंगे। पहले लोग अपने अकाउंट से पैसे की ट्रांजैक्शन करने के लिए घंटों लाइन में खड़े होकर के अपनी बारी का इंतजार करते रहते थे।

मगर एटीएम आ जाने के बाद बैंक में भीड़ बहुत कम हो चुकी है। जो लोग छोटी मोटी ट्रांजैक्शन के लिए पहले बैंक में जाया करते थे वह अब ATM से ही अपना transaction कर लेते हैं और इसमें बैंक वालों का भी समय बचता है और ग्राहक भी खुश रहता है। तो दोस्तों कुछ इस प्रकार से ही एटीएम होता है।

ATM का अविष्कार किसने किया था ?

” लूथर जॉर्ज सिमियन ” ने ATM का आविष्कार किया था और यह एक अमेरिकन नागरिक थे, लेकिन कुछ लोगों का ऐसा मानना है कि एटीएम का आविष्कार ” जॉन शेफर्ड बैरन ” ने किया था। मगर उस समय लोगों को मालूम नहीं था, कि उनसे भी पहले एक व्यक्ति ने ATM मशीन की ढांचा और मशीन भी तैयार कर ली थी बस फर्क इतना था कि यह मशीन deposit करने के लिए काम आती थी और इस मशीन को बनाने वाले कोई और व्यक्ति नहीं बल्कि “लूथर जॉर्ज सिमियन” थे।

ATM कैसे काम करता है ?

ATM मशीन पूरे तरह से इंटरनेट से जुड़ा हुआ होता है और उसी के माध्यम से कार्य करता है, और ये Bank के Server से भी जुड़ा होता है। हम जब भी ATM से पैसे निकालने के लिए अपने ATM Card को ATM के Card Reader Slot मे डालते है।

तब उसके बाद ATM हमारे Bank account से जुडी जानकारी को check करता है। जो हमारे ATM card के magnetic chiep या stic में लगी होती है। इसके बाद हमे अपना ATM का PIN यानी (personal Identification Number) माँगा जाता है।

हम जब अपना ATM PIN डालते है तो, ATM हमारे Account से जुडी सारी Information Bank तक भेजती है। और सारी जानकारी की सही सही पुष्टि करती है, और पुष्टि होने पर Bank से ATM को Response मलता है। और ATM के डेशबोर्ड पर हमारा पूरा Transaction करने का ऑप्शन आता है और हम अपने मन मुताबिक Transaction Complete कर पाते है।

हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सारे एटीएम सेटेलाइट से जुड़े हुए होते हैं और सेटेलाइट बैंकों से जुड़ा हुआ होता है और यही एक कारण होता है कि हम कहीं भी और किसी भी Atm से अपना transaction complete कर पाते हैं। और कुछ इसी आधार पर ATM machine काम करता है।

FAQ, s

Q1. भारत में पहला ATM कहाँ खोला गया था?

Ans. भारत में पहला ATM मुंबई शहर में खोला गया था, और यह भारत का एकमात्र पहला एटीएम मशीन था जिसका उपयोग HSBC-Bank के ग्राहकों ने किया था।

Q2. भारत का पहला बैंक कौन सा है?

Ans. ( बैंक ऑफ हिंदुस्तान ) भारत का सर्वप्रथम पहला बैंक था। यह बैंक कुछ कारणों की वजह से ज्यादा दिनों तक नहीं चल पाया था ऐसा माना जाता है कि यह बैंक 1830 वे वर्ष में ही बंद हो चुका था।

Q3. भारत में प्रथम बैंक कब स्थापित किया गया था?

Ans. भारत में प्रथम बैंक 1770 वे वर्ष में स्थापित किया गया था और इस बैंक का नाम ( बैंक ऑफ हिंदुस्तान ) था।

Q4. Bharat mein pahla atm kis shahar mein khola gaya tha

Ans. Bharat mein pahla atm mumbai shahar mein khola gaya tha.

Q5. भारत में पहला एटीएम कब खोला गया था ?

Ans. भारत में पहला एटीएम 1987 वे वर्ष में खोला गया था।

( निष्कर्ष, अंतिम शब्द )

उम्मीद करता हूं, कि आप को मेरा यह लेख बेहद पसंद आया होगा और आप इस लेख के मदद से भारत में पहला एटीएम किस शहर में खोला गया था, के बारे में जानकारी प्राप्त कर चुके होंगे। हमने इस लेख में सरल से सरल भाषा का उपयोग करके आपको ATM के बारे में बताया है।

Also Read :-

Leave a Comment