चीकू को इंग्लिश में क्या कहते हैं | chiku ko english mein kya kahate hain

Chiku ko english mein kya kahate hain:- दोस्तों आपने कभी ना कभी चीकू फल को तो खाया ही होगा लेकिन क्या आप जानते हैं कि चीकू को इंग्लिश में क्या कहते हैं? यदि नहीं जानते हैं तो आज के इस आर्टिकल में हम लोग यही जानेंगे। तो चलिए शुरू करते हैं इस पोस्ट को और जानते हैं कि चीकू इन इंग्लिश क्या होता है

चीकू को इंग्लिश में क्या कहते हैं? (chiku ko english mein kya kahate hain)

चीकू को इंग्लिश में Sapodilla बोला जाता है। इसके अलावा चीकू को इंग्लिश में Sapota, Sapodillo Plum या Naseberry नामों से भी जाना जाता हैं।

चीकू का इंग्लिश नाम क्या है?

चीकू का वानस्पतिक नाम Manilkara zapota होता है यह एक प्रकार का फल होता हैं। यह चीकू फल मुख्य रूप से तीन प्रकार के पाए जाते हैं जिनमें लम्बा गोल, लम्बा गोल और साधारण होता है।

चीकू खाने के फायदे और नुकसान

इस टॉपिक में हम लोग जानेंगे कि चीकू खाने के फायदे और नुकसान क्या-क्या है क्योंकि काफी लोग चीकू फल का सेवन करते हैं लेकिन उन्हें जानकारी नहीं है कि इसके फायदे और नुकसान क्या है तो चलिए जानते हैं

चीकू के फायदे

चलिए सबसे पहले जानते हैं कि चीकू फल का सेवन करने के फायदे क्या है और इसे क्यों खाना चाहिए :-

आँखों के लिए अच्छा –

चीकू फल में विटामिन A की अधिक मात्रा में पाइ जाती है जिससे यह आँखों की रोशनी बढ़ाने में काफी सहायक होता है।

कब्ज की परेशानी दूर करे –

चीकू फल में फाइबर की मात्रा भी काफी सही मात्रा में पाए जाती है, और जैसा की हम सभी जानते है फाइबर का सही मात्रा मे सेवन करने से कब्ज की समस्या भी दूर होती है.

सर्दी जुखाम –

चीकू फल का सेवन करने से कफ या सर्दी जुखाम की समस्या भी दूर होती है.

मेंटली स्ट्रोंग करे –

जैसे की आज कल हम लोगो के साथ होता है की कई बार चिंता, डिप्रेशन या परेशानी जैसी समस्या से सर दर्द करने लगता है. और तन, मन भारी रहता है. ऐसे में यदि आप चीकू फल का सेवन करते है तो यह आपके मन काफी शांत रखेगा।

किडनी पथरी (स्टोन) –

यदि चीकू फल के बीज को पीस कर खाया जाये तो यह किडनी और ब्लाडर में होने वाले स्टोन की समस्या को काफी हद तक दूर करता है. इसके अलावा इसका सेवन करने से किडनी की अन्य समस्या भी दूर होती है.

चीकू खाने के नुकसान

जिस प्रकार से हमने ऊपर जाना है कि चीकू फल का सेवन करने के कई सारे फायदे हैं उसी प्रकार से इसके सेवन करने के कई सारे नुकसान भी हैं तो चलिए जानते हैं:

वजन बढ़ना :-

चीकू फल का  ज्यादा सेवन करने का नुकसान यह है कि इसका ज्यादा मात्रा में सेवन करने से व्यक्ति का वजन भी बढ़ सकता है तो यदि कोई व्यक्ति अपना वजन कम करना चाहता है तो उसके लिए चीकू का सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है।

पेट की समस्या :-

अत्यधिक मात्रा मे चीकू का सेवन करने से पेट की समस्या भी हो सकती है  इसलिए चीकू फल का सेवन सीमित मात्रा में करना सही होता है।

छोटे बच्चों को समस्या :-

छोटे बच्चों को सर्दियों में चीकू का सेवन करने से गले में खराश की समस्या या सांस लेने में दिक्कत की जैसी समस्या हो सकती है इसलिए सर्दियों के मौसम में छोटे बच्चों को चीकू का सेवन नहीं करना चाहिए।

चीकू का बीज खाने की समस्या :-

चीकू का बीज खाने से पेट में दर्द जैसी समस्या हो सकती है क्योंकि चीकू फल के बीज मे सैपोटिन और सैपोटिनिन केमिकल मौजूद होता है जिससे उस व्यक्ति के पेट के अंदर दर्द की समस्या पैदा कर सकता है।

मुंह का स्वाद :-

यदि कोई व्यक्ति पहली बार कच्चे चीकू का सेवन करता है, तो ऐसा करने से उसका मुंह का स्वाद काफी ज्यादा बिगड़ जाएगा क्योंकि इस फल में काफी अधिक मात्रा में लेटेस्ट और टैनिन पाया जाता है जो कि काफी कड़वा होता है।

[ chiku से जुड़ी FAQ,s ]

Q. चीकू को इंग्लिश में क्या बोलते हैं (chiku ko english mein kya bolate hain)

Ans:- चीकू को इंग्लिश में Sapodilla बोलते है। इसके अलावा चीकू फल को ही इंग्लिश में Sapota, Sapodillo Plum और Naseberry भी बोलते हैं।

Q. चीकू की इंग्लिश में स्पेलिंग

Ans:- चीकू की इंग्लिश में Chiku होता है।

Q. चीकू की तासीर गर्म होती है या ठंडी

Ans:- चीकू फल की तासीर काफी ठंडी होती है. और चीकू स्वाद में काफी ज्यादा मीठे और रसीले लगते हैं.

Q : चीकू के अन्य नाम क्या है ?

Ans : यदि हम चीकू के अन्य नाम  की बात करें तो चीकू फल को बहुत सारे नामों से जाना जाता है जैसे कि कन्दुक-फल, गुदालू, सपोटा, चिकाली, नोजबेरी, अमेरिकन बुली, शिमाई-ऐलुप्पई आदि.

Q. चीकू कब खाना चाहिए?

Ans:- यदि हम चीकू खाने का सही समय की बात करें तो आप चीकू कभी भी खा सकते हैं जैसे कि सुबह उठकर, शाम को, दोपहर में अथवा रात को भी चीकू का सेवन कर सकते हैं।

Q. चीकू का पौधा कैसा होता है?

चीकू का पौधा वास्तव में कुछ इस प्रकार से दिखता है:-

Q. चीकू का पौधा घर पर कैसे लगाएं?

Ans:- चीकू के पौधा लगाने के लिए मिट्टी की पी एच 6 – 8 होनी चाहिए। चिकनी मिट्टी और कैल्शियम की उच्च मात्रा वाली मिट्टी में चीकू के पौधा नही लगाना चाहिए। चीकू का पौधा तैयार करने के लिए शीर्ष कलम तथा भेंट कलम विधि का अपनाया जाता है। मार्च-अप्रैल का समय चीकू का पौधा तैयार करने के लिए सबसे सही समय होता है

Q. प्रेगनेंसी में चीकू खाना चाहिए?

Ans:- बहुत सारे लोगों का सवाल होता है कि क्या प्रेगनेंसी में चीकू खाना चाहिए या नहीं  तो हम बता दें कि जी हां प्रेगनेंसी मे चीकू फल खाने के बहुत सारे फायदे हैं चीकू में भरपूर मात्रा में एनर्जी पाया जाता है जो की होने वाले शिशु के लिए भी काफी ज्यादा फायदेमंद है।

Q. चीकू खाने से वजन बढ़ता है क्या?

Ans:- वैसे तो चीकू हमारे सेहत के लिए काफी फायदेमंद है लेकिन इसके अत्याधिक सेवन करने से यह हमारे वजन को भी बढ़ा सकता है

[ अपने क्या सिखा ]

इस पोस्ट को पढ़ने के बाद अब हमें उम्मीद है कि आप जान चुके होंगे कि चीकू को इंग्लिश में क्या कहते हैं (chiku ko english mein kya kahate hain). तो इसी के साथ इस आर्टिकल को यहीं पर समाप्त करते हैं और उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा.. धन्यवाद

Leave a Comment